Ramzan Eid Mubarak Quotes, Wishes, Status & Images in Hindi | रमजान ईद मुबारक संदेश

Alvida Mahe Ramzan Quotes in Hindi

सबको उदास करके रमजान जा रहा है..
सब पर लुटाके अपना फैज़ान जा रहा है..
आया था घर हमारे किस्मत हमारी बनके,
भेजा था जो खुदा ने, वो मेहमान जा रहा है..
दिल हो रहा है पारा-पारा,
अलविदा अलविदा माहे-रमजान..


Eid Mubarak Messege in Hindi

ईद के मुबारक अवसर की
हार्दिक शुभकामनाएं।
ईद के इस पवित्र मौके पर
मैं कामना करता हूँ कि
आप सभी के जीवन में शांति
और खुशहाली आये।


आज के दिन क्या घटा छायी है,
चारो और खुशियों की फ़िज़ा छायी है,
हर कोई कर रहा है सजदा खुदा को,
तुम भी कर लो बंदगी आज ईद आई है..
ईद मुबारक!


ईद मुबारक शायरी हिंदी

ए चाँद, तू उनको मेरा पैगाम कह देना,
ख़ुशी का दिन और हँसी की शाम देना,
जब वो देखे तुझे बाहर आकर,
उनको मेरी तरफ से ईद मुबारक कह देना..


कोई इतना चाहे तुम्हे तो बताना,
कोई तुम्हारी इतनी फिकर करे तो बताना,
ईद मुबारक हो तो हर कोई कह लेगा,
कोई हमारे अंदाज मे कहे तो बताना..
ईद मुबारक हो !


Eid Mubarak Image in Hindi

सदा हसते रहो
जैसे हसते है फुल,
दुनिया के सारे गम
तुम जाओ भुल,
चारो तरफ फैलाओ
खुशियों का गीत,
इसी उम्मीद के साथ
आपको मुबारक हो ईद..


Eid Mubarak Wishes in Hindi

ज़िन्दगी का हर पल
खुशियों से कम ना हो,
आपका हर दिन
ईद के दिन से कम ना हो,
ऐसा ईद का दिन
आप को हमेशा नसीब हो,
जिसमे कोई दुःख
कोई गम पास ना हो..
ईद मुबारक!


Eid Mubarak Hindi Shayari

बादल से बादल मिलते है
तो बारीश होती है..
दोस्त से दोस्त मिलते है,
तो ईद होती है..
ईद मुबारक दोस्त!


Eid Mubarak Friend Quotes

हम आप की याद मे उदास हैं,
बस आप से मिलने की आस है,
चाहे दोस्त कितने ही क्यों ना हो,
मेरे लिए तो आप ही सब से खास हैं..
Eid Mubarak To My Cute, Sweet and Special Friend..


खुशिया नसीब हो जन्नत क़रीब हो,
तू चाहे जिसे वो तेरे क़रीब हो,
कुछ इस तरह हो करम अल्लाह का,
मक्का और मदीना की तुझे ज़ियारत नसीब हो..
ईद मुबारक हो Friend…


ईद की बधाई शायरी

चुपके से चाँद की रौशनी छु जाये आपको,
धीरे से ये हवा कुछ कह जाये आपको,
दिल से जो चाहते हो मांग लो खुदा से,
हम दुआ करते है मिल जाये वो आपको..
ईद मुबारक!


ईद मुबारक सन्देश

रात को नया चांद मुबारक,
चांद को चांदनी मुबारक,
फलक को सितारे मुबारक,
सितारों को बुलन्दी मुबारक,
और आपको हमारी तरफ से ईद मुबारक।


ईद लेकर आती है ढेर सारी खुशियां,
ईद मिटा देती है इंसानो में दूरियां,
ईद है ख़ुदा का एक नायाब तबारक,
और हम भी कहते हैं आपको ईद मुबारक!
Eid Mubarak!


Eid Mubarak Shayari in Hindi

आग़ाज़ ईद है, अंजाम ईद है..
सच्चाई पे चलो तो हर ग़म ईद है..
जिसने भी रखे रोज़े,
उन सब के लिए,
अल्लाह की तरफ से इनाम ईद है।
ईद मुबारक!


तू मेरी दुआओं में शामिल है इस तरह,
फूलों में होती है खुशबू जिस तरह,
अल्लाह तुम्हारी ज़िन्दगी में इतनी खुशियां दे,
ज़मीन पर होती है बारिश जिस तरह।
ईद मुबारक..!


ईद-अल-फितर की भूमिका

ईद-अल-फितर मुस्लिम समाज का एक परम पाक सर्वश्रेष्ठ महापर्व है। इसका संक्षिप्त संस्करण ईद, हैं, ईद शब्द का शाब्दिक अर्थ है आनन्द, खूशी हर्षोल्लास आह्लाद एवं परमानंद। भावार्थ यह कि ईद मानव मन के परमानंद, प्रेम, सौहार्द बंधुत्व का परम प्रतीक है। अर्थात इंसान का हार्दिक आह्लाद ही तो परवर दिगार परमात्मा का परम ज्वलंत स्वरूप है। यह भाव मानव मन को समन्वित करके एकता के सूत्र में बद्धित करता है। विविधता में एकता हमारी राष्ट्रीयता, भारतीयता की परम पहचान है, हमें इसे खंडित नहीं होने देना चाहिए। हर समाज सम्प्रदाय में कुछ विवेक हीन अनपद अशिक्षित प्राणी होते हैं जो नफरत घृणा की राजनीति करते है और इंसानियत को खंडित करने का प्रयत्न करते है। ऎसे असमाजिक तत्वों पर रोक लगाना परमावश्यक है। ईद तो आत्मा के आनन्द का प्रतीक है। इस लिए हम कुछ ऐसा करें कि सबके रूह को सकून मिले।

ईद मनाने का प्रारूप

हर पर्व की भांति इद मनाने का भी अपना एक खास अन्दाज, तौर तरीका, रीति-रिवाज एवं प्रचलन प्रथा है। रमजान महीना का पाक वक्त तप, संयम एवं उपवास के साथ व्यतीत हो जाता है। इस महीने के अन्तर्गत लोग अपने रूहों को पाक साफ बनाने का प्रयत्न करते है। लम्बे तीस दिनों की प्रतीक्षा के पश्चात खुशनुमा ईद का प्रादुर्भाव होता है। सबके मुखमंडल आनन्द की अनुभूति से मुस्कुरा उठते है। इस दिन लोग सुबह उठकर प्रात स्नान करते है तत्पश्चात शुभ्र श्वेत परमोज्वल वस्त्र धारण कर खूदा की बन्दगी हेतु मस्जिदो की और निकल पडते है। वहाँ जाकर ईद की नमाज पढ़ते हैं। इस सामूहिक नमाज का दृश्य कितना मन-भावन होता है, यह वर्णनातीत है। महान् कथाकार प्रेमचन्द की कहानी ईदगाह की पृष्ठभूमि नेत्रों के समक्ष धुम जाती है। हजारों लोग कतार में खड़े है। सजदे की खातीर हजारों सर एक साथ झुक जाते है। कितना अनुशासन है। अनुशासित ढंग से लोग खुदा की बंदगी करते है। नमाज के पश्चात लोग मेला देखने जाते है। घर में दावतों का आयोजन होता है। हम अपने बंधु बांधवों, और मित्रों को आमंत्रित करते है।

ईद अल फितरश् का इतिहास

इस पर्व का इतिहास अत्यन्त प्राचीन है। लोकोक्तियां के अनुसार जब पैगम्बर साहब जंग-ए-बदर जीत कर आए तो पहली बार इस पर्व का आयोजन किया गया। लोग मान्यता है कि मुसलमानों ने पैगम्बर साहब के नेतृत्व में इस भीषण युद्ध को जीता था और इसी विनयोत्सव को मनाने हेतु पैगम्बर साहब ने अल्लाह की बंदगी की थी, उनका शुक्रिया अदा किया था। तब से रमजान महीने के पश्चात पहली चाँद देखकर इस पर्व का आयोजन किया जाने लगा! इस तरह प्रत्येक वर्ष ईद का त्योहार मनाने का प्रचलन चल पड़ा।

उपसंहार

ईद-अल-फितरश् एक अत्यन्त लोकप्रिय पर्व है जिसे मुसलमान अत्यन्त श्रद्वा, प्रेम और भक्ति में मनाते हैं। लेकिन अन्य सम्प्रदाय के लोग भी इस पर्व में सम्मिलित होते हैं और मिलकर इस पर्व का आयोजन करते हैं। सह पर्व समन्वय, एकता, प्रेम और आनन्द का संदेश देता है। इसलिए यह पर्व प्रशंसनीय, वंदनीय एवं श्लाघनीय है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.