Tum Aa Jao Waapis

ज़िन्दगी जैसे एक सजा सी हो गई है,
ग़म के सागर में इस क़दर खो गई है,
तुम आ जाओ वापिस यह गुज़ारिश है मेरी,
मुझे शायद तुम्हारी आदत सी हो गई है…

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.