Tag: हर कोई किसी की मजबूरी नही समझता

Har Koi Kisi Ki Majburi Nahi Samjhta

Har Koi Kisi Ki Majburi Nahi Samjhta

हर कोई किसी की मजबूरी नही समझता,
दिल से दिल की दुरी नही समझता,
कोई तो किसी के बिना मर मर के जीता है,
और कोई किसी को याद करना भी जरूरी नही समझता…