Hum Tumse Milne Ko Tarasate Hai

तारे आसमान में ही चमकते है,
बदल इतने दूर है,
फिर भी बरसते है,
हम भी कितने अजीब है,
तुम दिल में रहते हो,
और हम तुमसे मिलने को तरसते है…!

Tumhari Kami Si Thi

वक्त गुजरता रहा पर साँसे थमी सी थी,
मुस्कुरा रहे थे हम पर आँखों मे नमी सी थी,
साथ हमारे ये जहाँ था सारा,
पर ना जाने क्यों तुम्हारी कमी सी थी…