Tag: किनारों की कभी हद नहीं होती

Bachke Rehana Humse

Bachke Rehana Humse

किनारों की कभी हद नहीं होती,
तारों की कभी गिनती नहीं होती,
बचके रहना हमसे,
क्योंकि हमारे दिल में कैद दोस्तों की कभी ज़मानत नहीं होती…